Stock Market Crash Meaning in Hindi – Wealthgif

स्टॉक मार्केट क्रैश क्या है | हिंदी में अर्थ | मार्केट क्रैश के कारण | इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण स्टॉक मार्केट क्रैशेस | इससे बचने के उपाय

Stock market crash meaning in hindi

हेलो दोस्तों आज हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे की स्टॉक मार्केट क्रैश का हिंदी में क्या मतलब होता है और मार्केट क्रैश होने के क्या- क्या कारण होते हैं। तो आइए शुरू करते हैं..

स्टॉक मार्केट क्रैश का अर्थ

स्टॉक एक्सचेंज में खरीदी बिक्री किए जाने वाले शेयरों के मूल्य में तेजी से और भारी मात्रा में गिरावट होना स्टॉक मार्केट क्रैश कहलाता है।

जिसके परिणामस्वरूप निवेशकों में बहुत ज्यादा panic फैल जाता है, शेयरों की मांग में significant कमी आती है और market prices में तेज से गिरावट आती है।

What is Stock Market Crash

A stock market crash is a rapid and severe drop in the value of stocks traded on a stock exchange.

मार्केट क्रैश के निम्न कारण हो सकते हैं

  1. बहुत बड़ी दुर्घटना
  2. आर्थिक या राजनीतिक अस्थिरता
  3. ब्याज दरों में परिवर्तन
  4. निवेशक भावना ( investor sentiment)
  5. प्राकृतिक आपदाओं या महामारी
  6. बढ़ती महंगाई दर

जैसी अप्रत्याशित घटनाओं के कारण स्टॉक मार्केट क्रैश हो सकता है।

स्टॉक मार्केट क्रैश में क्या होता है?

स्टॉक मार्केट क्रैश के दौरान, शेयरों का मूल्य एक छोटी अवधि के भीतर काफी अधिक गिर जाता है, जिससे निवेशकों द्वारा अपने नुकसान को कम करने के लिए बड़े पैमाने पर शेयरों की बिक्री की जाती है।

जैसे-जैसे अधिक निवेशक अपने शेयर बेचते हैं, बाजार शेयरों से भर जाता है, जिससे कीमतों में और अधिक गिरावट आती है।

यह एक vicious cycle को ट्रिगर कर सकता है, जो bear market के नाम से जाना जाता है, जहां लंबे अंतराल के लिए downward trend जारी रहता है, जिससे निवेशकों को भारी नुकसान होता है और सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था प्रभावित होती है।

शेयर मार्केट कब-कब क्रैश हुआ?

आइए विश्व के कुछ महत्वपूर्ण स्टॉक मार्केट क्रैशेस के बारे में जानते हैं,

इतिहास में सबसे प्रसिद्ध स्टॉक मार्केट क्रैश 1929 में हुआ, जिससे 1930 के दशक की महामंदी हुई। 29 अक्टूबर, 1929 को, जिसे ब्लैक ट्यूजडे के रूप में भी जाना जाता है, डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज (DJIA) 12% गिर गया, जिससे बिकवाली का उन्माद फैल गया जिसने अरबों डॉलर की संपत्ति को मिटा दिया।

इस क्रैश के पीछे कई सारे कारक थे, जिसमें शेयर बाजार में over-speculation, कृषि कीमतों में गिरावट और ऋण की तंगी शामिल है।

तब से, कई अन्य महत्वपूर्ण स्टॉक मार्केट क्रैश हुए हैं, जिनमें 1987 की दुर्घटना, 2000 के दशक की शुरुआत में डॉट-कॉम बुलबुला फटना और 2008-2009 का वैश्विक वित्तीय संकट शामिल है।

इनमें से प्रत्येक मामले में, शेयर्स के कीमतों में अचानक से और नाटकीय रूप से गिरावट हुआ, जिससे widespread panic और economic instability पैदा हुई।

स्टॉक मार्केट क्रैश से कैसे बचें?

स्टॉक मार्केट क्रैश के प्रभाव से खुद को बचाने के लिए, निवेशक विभिन्न रणनीतियों को अपना सकते हैं, जैसे कि –

  • अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाना,
  • गोल्ड जैसी सुरक्षित-संपत्ति में निवेश करना
  • Options or futures contracts के माध्यम से अपनी पोजीशन को hedge करना आदि।

हालांकि, यह भविष्यवाणी करना चुनौतीपूर्ण है कि दुर्घटना कब होगी, और यहां तक ​​कि सबसे विवेकपूर्ण निवेशकों (prudent investors) को बाजार में गिरावट से महत्वपूर्ण नुकसान हो सकता है।

famous stock market crashes in india –

1. हर्षद मेहता घोटाला:

In 1992, the Indian stock market witnessed a significant crash due to the infamous Harshad Mehta Scam.

जहां एक स्टॉकब्रोकर ने नकली बैंक रसीदों का उपयोग करके बाजार में हेरफेर किया, जिससे निवेशकों का विश्वास कम हुआ और बाजार में भारी गिरावट आई।

2. वैश्विक वित्तीय संकट:

2008 के वैश्विक वित्तीय संकट का भारतीय शेयर बाजार पर भयंकर रूप से प्रभाव पड़ा, बेंचमार्क इंडेक्स, सेंसेक्स, कुछ ही महीनों में 50% से अधिक गिर गया।

3. भारतीय आम चुनाव:

2004 में, भारतीय शेयर बाजार आम चुनावों के बाद क्रैश हो गया, जिसके परिणामस्वरूप भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की अप्रत्याशित जीत हुई, जिससे अनिश्चितता बढ़ गई और निवेशकों के विश्वास में गिरावट आई।

4. चीनी बाजार में उथल-पुथल:

2015 में, चीनी बाजार में उथल-पुथल का भारतीय शेयर बाजार पर प्रभाव पड़ा, जिससे स्टॉक की कीमतों में भारी गिरावट दर्ज की गई।

5. COVID-19 महामारी:

2020 में, COVID-19 महामारी के प्रकोप के कारण वैश्विक बाजार में गिरावट आई, साथ ही भारतीय शेयर बाजार में भी स्टॉक की कीमतों में भारी गिरावट आई थी।

Overall, while the Indian stock market has witnessed several crashes over the years, it has also shown resilience and bounced back from these events, providing opportunities for long-term investors

FAQ

प्र: स्टॉक मार्केट क्रैश क्या है?

ऊ: शेयरों के कीमतों में अचानक और गंभीर रूप से गिरावट होना, स्टॉक मार्केट क्रैश कहलाता है।

Final Words about Stock Market Crash Meaning in Hindi

स्टॉक मार्केट क्रैश, स्टॉक की कीमतों में अचानक और गंभीर गिरावट होना है, जो विभिन्न प्रकार के कारकों से ट्रिगर होती है, इसके significant economic consequences हो सकते हैं।

हालांकि यह भविष्यवाणी करना असंभव है कि दुर्घटना कब होगी, इसलिए निवेशक अपने जोखिम को कम करने के लिए पहले से precautionary steps ले सकते हैं और बाजार में गिरावट की स्थिति में अपने पोर्टफोलियो की रक्षा कर सकते हैं।

तो ये था आपके Stock market crash meaning in hindi, stock market crash in hindi आदि सवालों के जवाब। हमें आशा है की यह लेख आपको जरूर पसंद आया होगा।

Rate this post

Leave a Comment