Sip क्या है हिंदी में जानकारी

What is SIP ?

SIP, या सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान, एक लोकप्रिय इन्वेस्टमेंट टूल है, यह म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक तरीका है।

SIP निवेशकों को म्यूचुअल फंड में नियमित अंतराल पर, आमतौर पर मासिक या त्रैमासिक रूप से एक निश्चित राशि को निवेश करने की सुविधा प्रदान है।

यह एकमुश्त निवेश से अलग है, जहां निवेशक एक साथ बड़ी राशि का निवेश करते हैं।

एसआईपी में एक बार में बड़ी राशि का निवेश करने के बजाय समय-समय पर एक छोटी राशि का निवेश किया जाता है जैसे, हर महीने 500 रुपए का इन्वेस्टमेंट वो भी लगातार कई महीनो तक।

एसआईपी म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक सुविधाजनक और अनुशासित तरीका है। यह निवेशकों को चक्रवृद्धि की शक्ति से लाभ उठाने में मदद करता है, क्योंकि इन्वेस्टमेंट लंबे समय तक चलते रहता है, परिणामस्वरूप इससे निवेशक को उच्च रिटर्न प्राप्त हो सकता है।

एसआईपी के साथ, निवेशक बाजार की अस्थिरता का भी लाभ उठा सकते हैं, क्योंकि जब बाजार नीचे होता है तो वे अधिक units खरीद सकते हैं और जब बाजार ऊपर होता है तो कम units खरीद सकते हैं।

Sip कैसे शुरू करें?

SIP शुरू करने के लिए, सबसे पहले निवेशक को एक म्यूचुअल फंड का चयन करना होगा और वह राशि चुननी होगी जो वे निवेश करना चाहते हैं, साथ ही निवेश की आवृत्ति भी सेलेक्ट करना होगा।

आजकल निवेश राशि कुछ सौ रुपये से शुरू हो जाती है। निवेशक के बैंक खाते से हर महीने या तिमाही में ऑटो-डेबिट के माध्यम से निवेश राशि काट ली जाती है,

और म्युचुअल फंड के units को लेन-देन की तारीख पर फंड के प्रचलित नेट एसेट वैल्यू (NAV) के आधार पर निवेशक को आवंटित कर दिया जाता है।

SIP को इक्विटी, डेट और हाइब्रिड फंड सहित विभिन्न प्रकार के म्यूचुअल फंड में शुरू किया जा सकता है।

SIP के फायदे:

एसआईपी निवेशकों को कई तरह के फायदे देते हैं,

सबसे पहला फायदा है, SIP निवेशकों को अनुशासित तरीके से निवेश करने में मदद करता है, क्योंकि बाजार की स्थितियों की परवाह किए बिना नियमित रूप से निवेश किया जाता है।

दूसरा, SIP निवेशकों को कंपाउंडिंग की शक्ति से लाभ उठाने में मदद करता है, क्योंकि निवेश पर अर्जित रिटर्न को आगे और रिटर्न अर्जित करने के लिए री-इन्वेस्ट किया जाता है।

तीसरा, वे निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में डाइवर्सिफिकेशन लाने में मदद करता है, क्योंकि निवेशक एसआईपी के जरिए बहुत सारे म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकता है।

SIP के नुकसान:

इन सबके अलावा SIP के साथ कुछ जोखिम भी जुड़े होते हैं। जैसे, म्युचुअल फंड का प्रदर्शन बाजार के जोखिमों के अधीन है और इकोनॉमिक कंडीशंस, सरकारी नीतियों और कंपनी-स्पेसिफिक फैक्टर्स जैसे विभिन्न कारकों के आधार पर इनका प्रदर्शन ऊपर नीचे हो सकता है।

निवेशक द्वारा अर्जित रिटर्न टैक्स के अधीन है, और निवेशक यदि एक निश्चित अवधि से पहले अपने निवेश को redeem करते हैं तो उन्हें exit load चार्जेस भी देने पड़ सकते हैं।


© Ankur wariko


FAQ

प्र. सिप क्या है?

ऊ. सिप जिसे अंग्रेजी में SIP या सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान कहते हैं, म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक तरीका है।

Final words,

एसआईपी म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक सुविधाजनक और अनुशासित तरीका है। यह निवेशकों को नियमित निवेश, चक्रवृद्धि की शक्ति और डायवर्सिफिकेशन सहित कई तरह के लाभ प्रदान करता है।

साथ ही, निवेशकों को म्यूचुअल फंड से जुड़े जोखिमों के बारे में भी पता होना चाहिए और उन्हें अपने वित्तीय लक्ष्यों, जोखिम लेने की क्षमता और निवेश की अवधि के आधार पर म्यूचुअल फंड का चयन करना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:

• नेटवर्थ क्या है।

• जानें अमीर कैसे बनें।

• इंस्टाग्राम से पैसे कमाएं।

Rate this post

Leave a Comment